Type Here to Get Search Results !

देश भक्ति कविताएँ Desh Bhakti Patriotic Poems in Hindi

देश-भक्ति कविताएँ,
Desh Bhakti/Patriotic Poems in Hindi

desh-bhakti-patriotic-poems-in-hindi

Hindi Kavita on Desh Bhakti : स्वतंत्रता दिवस और गणतंत्र दिवस पर देश भक्ति पर आधारित हिंदी कविता आप के पसंददीदा कवि की कविता ले कर आये है , उम्मीद है आपको अवश्य पसंद आएगी।  Desh Bhakti Hindi Kavita पढ़ कर आपको भारत के प्रति देश प्रेम, भारतीय सैनिको के प्रति सम्मान की भावना मन मे आती है कैसे उन्होंने अपने प्राणों की आहुति देकर देश को सुरक्षित व देश का गौरव बनाये रखा। 
 
राम प्रसाद बिस्मिल की देश भक्ति कविताएँ
सरफ़रोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में है -राम प्रसाद बिस्मिल
जिन्दगी का राज-चर्चा अपने क़त्ल का -राम प्रसाद बिस्मिल
मिट गया जब मिटने वाला (अन्तिम रचना) -राम प्रसाद बिस्मिल
मुखम्मस-हैफ़ हम जिसपे कि तैयार थे मर जाने को -राम प्रसाद बिस्मिल
खटमल और बेचारी जूं -राम प्रसाद बिस्मिल
न चाहूँ मान दुनिया में, न चाहूँ स्वर्ग को जाना -राम प्रसाद बिस्मिल
हे मातृभूमि ! तेरे चरणों में सिर नवाऊँ -राम प्रसाद बिस्मिल
अरूज़े कामयाबी पर कभी तो हिन्दुस्तां होगा -राम प्रसाद बिस्मिल
भारत जननि तेरी जय हो विजय हो -राम प्रसाद बिस्मिल
ऐ मातृभूमि तेरी जय हो, सदा विजय हो -राम प्रसाद बिस्मिल
बला से हमको लटकाए अगर सरकार फांसी से-तराना -राम प्रसाद बिस्मिल
देश की ख़ातिर मेरी दुनिया में यह ताबीर हो -राम प्रसाद बिस्मिल
दुनिया से गुलामी का मैं नाम मिटा दूंगा -राम प्रसाद बिस्मिल
आज़ादी-इलाही ख़ैर ! वो हरदम नई बेदाद करते हैं -राम प्रसाद बिस्मिल
देश हित पैदा हुये हैं देश पर मर जायेंगे -राम प्रसाद बिस्मिल
महादेवी वर्मा की देश भक्ति कविताएँ
क्रांति गीत -महादेवी वर्मा
देशगीत : अनुरागमयी वरदानमयी -महादेवी वर्मा
देशगीत : मस्तक देकर आज खरीदेंगे हम ज्वाला -महादेवी वर्मा
ध्वज गीत: विजयनी तेरी पताका -महादेवी वर्मा
मैथिलीशरण गुप्त की देश भक्ति कविताएँ
मातृभूमि -मैथिलीशरण गुप्त
भारतवर्ष -मैथिलीशरण गुप्त
भारत माता का मंदिर यह -मैथिलीशरण गुप्त
भारत का झण्डा -मैथिलीशरण गुप्त
मातृ-मूर्ति -मैथिलीशरण गुप्त
भारतवर्ष की श्रेष्ठता -मैथिलीशरण गुप्त
हमारा उद्भव -मैथिलीशरण गुप्त
स्वराज्य -मैथिलीशरण गुप्त
हरिवंशराय बच्चन की देश भक्ति कविताएँ
स्वतन्त्रता दिवस -हरिवंशराय बच्चन
आज़ाद हिन्दुस्तान का आह्वान -हरिवंशराय बच्चन
शहीदों की याद में -हरिवंशराय बच्चन
शहीद की माँ -हरिवंशराय बच्चन
राष्ट्र ध्वजा -हरिवंशराय बच्चन
भारतमाता मन्दिर -हरिवंशराय बच्चन
नौ अगस्त, '४२ -हरिवंशराय बच्चन
क्रांति दीप
कवि का दीपक -हरिवंशराय बच्चन
घायल हिन्दुस्तान -हरिवंशराय बच्चन
आज़ादी का नया वर्ष -हरिवंशराय बच्चन
देश के सैनिकों से -हरिवंशराय बच्चन
देश के युवकों से -हरिवंशराय बच्चन
आज़ादी के बाद -हरिवंशराय बच्चन
देश-विभाजन-१ -हरिवंशराय बच्चन
क्रांति दीप -हरिवंशराय बच्चन
देश-विभाजन-३ -हरिवंशराय बच्चन
देश के नेताओं से -हरिवंशराय बच्चन
देश के नाविकों से -हरिवंशराय बच्चन
आजादी की पहली वर्षगाँठ -हरिवंशराय बच्चन
आजादी की दूसरी वर्षगाँठ -हरिवंशराय बच्चन
गणतंत्र दिवस -हरिवंशराय बच्चन
गणतन्त्र पताका -हरिवंशराय बच्चन
झण्डा -हरिवंशराय बच्चन
बन्दी -हरिवंशराय बच्चन
बन्दी मित्र -हरिवंशराय बच्चन
रामधारी सिंह दिनकर की देश भक्ति कविताएँ
कलम, आज उनकी जय बोल-शहीद-स्तवन -रामधारी सिंह दिनकर
किसको नमन करूँ मैं भारत? -रामधारी सिंह दिनकर
जनतन्त्र का जन्म -रामधारी सिंह दिनकर
जियो जियो जय हिन्दुस्तान -रामधारी सिंह दिनकर
भारत/जब आग लगे -रामधारी सिंह दिनकर
सिपाही -रामधारी सिंह दिनकर
हे मेरे स्वदेश! -रामधारी सिंह दिनकर
जयशंकर प्रसाद की देश भक्ति कविताएँ
अरुण यह मधुमय देश हमारा -जयशंकर प्रसाद
हिमाद्रि तुंग श्रृंग से प्रबुद्ध शुद्ध भारती -जयशंकर प्रसाद
भारत महिमा -जयशंकर प्रसाद
अशोक गौड़ 'अकेला'की देश भक्ति कविताएँ
आखिर मैं कब तक सोऊंगा -अशोक गौड़ 'अकेला'
आँसू देश प्रेम के -अशोक गौड़ 'अकेला'
धर्म और कौमी एकता -अशोक गौड़ 'अकेला'
जागेंगे और जगायेंगे -अशोक गौड़ 'अकेला'
करे सोई है ज्ञानी -अशोक गौड़ 'अकेला'
चेतना -अशोक गौड़ 'अकेला'
बटा हुआ दिल -अशोक गौड़ 'अकेला'
रंग लायेगी कभी तो -अशोक गौड़ 'अकेला'
तिरंगे के रंग सा कफन जिसका -अशोक गौड़ 'अकेला'
आंचल भिगोती जा रही -अशोक गौड़ 'अकेला'
शहीदों से -अशोक गौड़ 'अकेला'
कर देंगे भष्मसात ! -अशोक गौड़ 'अकेला'
उदय हो रहा नव प्रभात -अशोक गौड़ 'अकेला'
नया इन्कलाब लाता है। -अशोक गौड़ 'अकेला'
बीसवीं सदी का रावण -अशोक गौड़ 'अकेला'
किसने उड़ाया धुन्ध -अशोक गौड़ 'अकेला'
इंसान हम बनें सब -अशोक गौड़ 'अकेला'
ढूढ़ना है आत्म दर्शन ! -अशोक गौड़ 'अकेला'
दोस्ताना हाथ चाहिये -अशोक गौड़ 'अकेला'
सुभद्राकुमारी चौहान की देश भक्ति कविताएँ
जलियाँवाला बाग में बसंत - सुभद्रा कुमारी चौहान
ठुकरा दो या प्यार करो - सुभद्रा कुमारी चौहान
मेरा नया बचपन - सुभद्रा कुमारी चौहान
झांसी की रानी - सुभद्रा कुमारी चौहान
झाँसी की रानी की समाधि पर - सुभद्रा कुमारी चौहान
वीरों का कैसा हो वसंत - सुभद्रा कुमारी चौहान
स्वदेश के प्रति - सुभद्रा कुमारी चौहान
अटल बिहारी वाजपेयी की देश-भक्ति कविताएँ
उनकी याद करें -अटल बिहारी वाजपेयी
स्वतंत्रता दिवस की पुकार -अटल बिहारी वाजपेयी
गगन मे लहरता है भगवा हमारा -अटल बिहारी वाजपेयी
अमर है गणतंत्र -अटल बिहारी वाजपेयी
मातृपूजा प्रतिबंधित -अटल बिहारी वाजपेयी
कण्ठ-कण्ठ में एक राग है -अटल बिहारी वाजपेयी
आए जिस-जिस की हिम्मत हो -अटल बिहारी वाजपेयी
जंग न होने देंगे -अटल बिहारी वाजपेयी
गुलज़ार की देश भक्ति कविताएँ
जय हिन्द हिन्द, जय हिन्द हिन्द -गुलज़ार
हिंदुस्तान में दो दो हिंदुस्तान दिखाई देते हैं -गुलज़ार
अटल बिहारी वाजपेयी के काव्यसंग्रह
जीवन परिचय -अटल बिहारी वाजपेयी
मेरी इक्यावन कविताएँ -अटल बिहारी वाजपेयी
कैदी कविराय की कुण्डलियाँ -अटल बिहारी वाजपेयी
न दैन्यं न पलायनम् -अटल बिहारी वाजपेयी
इंदीवर - देश-भक्ति कविताएँ
मेरे देश की धरती -इंदीवर
है प्रीत जहाँ की रीत सदा -इंदीवर
दुल्हन चली, ओ पहन चली, तीन रंग की चोली -इंदीवर
कुमार विश्वास की देश भक्ति कविताएँ
होठों पर गंगा हो, हाथों में तिरंगा हो - कुमार विश्वास
है नमन उनको -कुमार विश्वास
जावेद अख़्तर की देश भक्ति कविताएँ
पन्द्रह अगस्त - जावेद अख़्तर
दुष्यन्त कुमार की देश भक्ति कविताएँ
देश-प्रेम - दुष्यन्त कुमार
देश - दुष्यन्त कुमार
गांधीजी के जन्मदिन पर - दुष्यन्त कुमार
सुब्रह्मण्य भारती की देश भक्ति कविताएँ
यह है भारत देश हमारा-सुब्रह्मण्य भारती
जय भारत-सुब्रह्मण्य भारती
सब शत्रुभाव मिट जाएँगे-सुब्रह्मण्य भारती
चलो गाएँ हम-सुब्रह्मण्य भारती
वन्देमातरम-सुब्रह्मण्य भारती
रे विदेशियो! भेद न हममें‌-सुब्रह्मण्य भारती
निर्भय-सुब्रह्मण्य भारती
वंदे मातरम्‌-सुब्रह्मण्य भारती
नमन करें इस देश को-सुब्रह्मण्य भारती
भारत सर्वोत्कृष्ट देश है-सुब्रह्मण्य भारती
सुमित्रानंदन पंत की देश भक्ति कविताएँ
१५ अगस्त १९४७-सुमित्रानंदन पंत
जन्म भूमि-सुमित्रानंदन पंत
लोक सत्य-सुमित्रानंदन पंत
मुझे असत् से-सुमित्रानंदन पंत
भारतमाता-सुमित्रानंदन पंत
सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला की देश भक्ति कविताएँ
ख़ून की होली जो खेली-सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला
दिल्ली-सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला
कहाँ देश है-सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला
भारती वन्दना-सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला
पतित पावनी, गंगे-सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला
सोहन लाल द्विवेद की देश भक्ति कविताएँ
कोशिश करने वालों की हार नहीं होती - सोहन लाल द्विवेदी
मातृभूमि - सोहन लाल द्विवेदी
भारत - सोहन लाल द्विवेदी
वंदना - सोहन लाल द्विवेदी
तुम्हें नमन - सोहन लाल द्विवेदी
गिरिराज - सोहन लाल द्विवेदी
रे मन - सोहन लाल द्विवेदी
आया वसंत आया वसंत - सोहन लाल द्विवेदी
अलि रचो छंद - सोहन लाल द्विवेदी
नयनों की रेशम डोरी से - सोहन लाल द्विवेदी
जागरण गीत - सोहन लाल द्विवेदी
मंदिर दीप - सोहन लाल द्विवेदी
तुलसीदास - सोहन लाल द्विवेदी
सोहन लाल द्विवेदी की देश भक्ति कविताएँ
हल्दीघाटी - सुब्रह्मण्य भारती
राणा प्रताप के प्रति - सुब्रह्मण्य भारती
आज़ादी के फूलों परह-सुब्रह्मण्य भारती
हथकड़ियाँ !-सुब्रह्मण्य भारती
मुक्ता-सुब्रह्मण्य भारती
बढ़े चलो, बढ़े चलो-सुब्रह्मण्य भारती
जय राष्ट्रीय निशान!-सुब्रह्मण्य भारती
ध्वजा-गीत-सुब्रह्मण्य भारती
यह भारतवर्ष हमारा है!-सुब्रह्मण्य भारती
मातृभूमि-सुब्रह्मण्य भारती
भारत-सुब्रह्मण्य भारती
वंदना-सुब्रह्मण्य भारती
तुम्हें नमन-सुब्रह्मण्य भारती
Tag : Hindi Kavita on Desh Bhakti, Desh Bhakti Hindi Kavita, Hindi Kavita


Jane Mane Kavi