Type Here to Get Search Results !

Ads

वंदे मातरम् - सुव्रत शुक्ल | Vande Mataram - Suvrat Shukla

Hindi Kavita
हिंदी कविता

Suvrat-Shukla

वंदे मातरम् - सुव्रत शुक्ल | Vande Mataram - Suvrat Shukla


मां वसुंधरा , शरण तुम्हारी, हम तेरी संतान ।
पाते जन्म यहां पर , जिनके होते पुण्य महान।।

'रामचंद्र', 'प्रह्लाद',' व्यास', 'ध्रुव', 'जन्म' यहां थे पाए।
अपने आदर्शों के बल , मर्यादा पुरुष कहाए।
मिट्टी लगा तिलक माथे पर, करते हम गुणगान।
पाते जन्म यहां पर जिनके होते पुण्य महान।
मां वसुंधरा, शरण तुम्हारी, हम तेरी संतान।।

'कृष्ण - सुदामा', 'रघुनायक- सुग्रीव' मित्र जब बनते ।
ऊंच-नीच भेद त्याग , संदेश प्रेममय देते ।
उन देवावतार जन को करते दंडवत प्रणाम।
पाते जन्म यहां पर जिनके होते पुण्य महान।
मां वसुंधरा, शरण तुम्हारी, हम तेरी संतान।।

चंद्रशेखर आजाद,भगत सिंह , राजगुरु, बटुकेश्वर।
भारत मां का सम्मान रखा , कर दिए प्राण न्योछावर।
उनके चरणों में हम नत, जो हुए यहां बलिदान।
पाते जन्म यहां पर जिनके होते पुण्य महान।
मां वसुंधरा, शरण तुम्हारी, हम तेरी संतान।।

जहां पिता- माता के चरणों में हों चारो धाम ।
हर बच्ची "मां दुर्गा" हो , बच्चा बच्चा "श्री राम"।
शस्य -श्यामला धरती का धरता हो जहां किसान।
बच्चे- बच्चे के मुख होता " वंदे मातरम् "गान ।
पाते जन्म यहां पर जिनके होते पुण्य महान।
मां वसुंधरा, शरण तुम्हारी, हम तेरी संतान।।                          

                                           -   सुव्रत शुक्ल


Jane Mane Kavi (medium-bt) Hindi Kavita (medium-bt) Suvrat Shukla(link)

Top Post Ad

Below Post Ad

Ads