Type Here to Get Search Results !

नज़ीर अकबराबादी Nazeer Akbarabadi

nazeer-aakbarabadi

नज़ीर अकबराबादी 
Nazeer Akbarabadi 
नज़ीर अकबराबादी (१७३५-१८३०), जिन का असली नाम वली मुहम्मद था, को उर्दू 'नज़्म का पिता' करके जाना जाता है । वह आम लोगों के कवि थे । उन्होंने आम जीवन, ऋतुयों, त्योहारों, फलों, सब्जियों आदि विषयों पर लिखा । वह धर्म-निरपेक्षता की ज्वलंत उदाहरण हैं । कहा जाता है कि उन्होंने लगभग दो लाख रचनायें लिखीं । परन्तु उनकी छह हज़ार के करीब रचनायें मिलती हैं और इन में से 6०० के करीब ग़ज़लें हैं।


नज़ीर अकबराबादी की रचनाएँ

नज़्में (कविताएं)-नज़ीर अकबराबादी

सूफ़ी-रंग-नज़ीर अकबराबादी

धार्मिक-रंग-नज़ीर अकबराबादी

मनुष्य जीवन के रंग-नज़ीर अकबराबादी

ग़ज़लें-नज़ीर अकबराबादी

रुबाइयाँ-नज़ीर अकबराबादी

दोहे-नज़ीर अकबराबादी

त्यौहार ऋतुएँ मौसम कविताएँ-नज़ीर अकबराबादी

मेले, खेल-तमाशे-नज़ीर अकबराबादी

नारी श्रृंगार-नज़ीर अकबराबादी

श्री कृष्ण पर कविताएं-नज़ीर अकबराबादी

पशु-पक्षियों पर कविताएं-नज़ीर अकबराबादी

फलों-सब्जियों खानपान पर कविताएं-नज़ीर अकबराबादी

विविध कविताएं-नज़ीर अकबराबादी

नगर भवनों पर कविताएं-नज़ीर अकबराबादी

किस्सा लैला मजनूँ-नज़ीर अकबराबादी