-->

जयशंकर प्रसाद Jaishankar Prasad

jai-shanker-prasad

जयशंकर प्रसाद
Jaishankar Prasad

जयशंकर प्रसाद (३० जनवरी १८८९ - १४ जनवरी १९३७) कवि, नाटकार, कथाकार, उपन्यासकार तथा निबन्धकार थे। वे हिन्दी के छायावादी युग के चार प्रमुख स्तंभों में से एक हैं ।

उन्होंने हिंदी काव्य में छायावाद की स्थापना की जिसके द्वारा खड़ी बोली के काव्य में कमनीय माधुर्य की रससिद्ध धारा प्रवाहित हुई और वह काव्य की सिद्ध भाषा बन गई। उन्होंने कविता, कहानी, नाटक, उपन्यास और आलोचनात्मक निबंध आदि विभिन्न विधाओं में रचनाएं की। उनकी काव्य रचनाएँ हैं: कानन-कुसुम, महाराणा का महत्व, झरना, आंसू, लहर, कामायनी और प्रेम पथिक । इसके इलावा उनके नाटकों में बहुत से मीठे गीत मिलते हैं ।

इस दृष्टि से उनकी महत्ता पहचानने एवं स्थापित करने में वीरेन्द्र नारायण, शांता गाँधी, सत्येन्द्र तनेजा एवं अब कई दृष्टियों से सबसे बढ़कर महेश आनन्द का प्रशंसनीय ऐतिहासिक योगदान रहा है। 

जयशंकर प्रसाद की रचनाएँ
जीवन परिचय चित्राधार
कामायनी आंसू
झरना लहर
कानन-कुसुममहाराणा का महत्त्व
विविध रचनाएँनाटकों में से काव्य रचनाएँ
कहानियाँ
SeeLidComment

लेबल

कविता (295) कहानी संग्रह (29) खड़ी बोली (4) ग़ज़लें (24) गीत (8) गीत बन्ना-बन्नी (2) छायावादी (1) छायावादी रचनाकार (6) जाने माने कवि (35) दीवाली पर कविताएँ (2) देश-भक्ति कविताएँ (17) दोहे (17) धार्मिक कविता (2) नाटक (3) नारी श्रृंगार पर कविताएं (1) पद (5) पशु-पक्षियों पर कविताएं (1) पहेलियाँ (1) पुस्तक (77) पोथी (2) फलों-सब्जियों पर कविताएं (1) बसन्त बहार पर कविताएँ (1) बाल कविताएँ (2) ब्रज भाषा रचनाकार (1) भक्तिकालीन रचनाकार (1) भजन (1) मनुष्य जीवन पर कविताएँ (1) मेले-खेल-तमाशे पर कविताएं (1) मौसम पर कविताएं (1) रचनाकार (31) राजस्थानी लोक गीत (2) लोक गीत सोहर अवधी (1) लोक गीत सोहर भोजपुरी (1) लोकगीत कजरी कजली (3) लोकगीत सोहर ब्रज (1) शायर (7) शेर (1) श्री कृष्ण पर कविताएं (78) श्लोक (1) संस्मरण (3) सावन-गीत (1) सूफ़ी-रंग (6) सोहर लोक गीत (3) हिन्दी लोक गीत (18) होली पर कविताएँ (3) Devotional (1) Good Morning Message (3) Kahani (42) Love Shayari (3) Novel (88) rose day (1) Sad Shayari (1) Shayari (1) Whatsapp DP Status (1)